Sunday, October 20सही समय पर सच्ची खबर...

हमेशा ऐसे नहीं दिखते थे शोले के ‘रहीम चाचा’ यानि एके हंगल, पेशावर में बीता था बचपन और जवानी

समरनीति न्यूज, मनोरंजन डेस्कः फिल्म शोले के रहीम चाचा तो आपको याद होंगे हीं, उस किरदार को निभाने वाले एके हंगल साहब की आज पुण्यतिथि है। बहुत से लोगों को अक्सर यह कहते हुए सुना जाता है कि एके हंगल साहब की जवानी की फोटो कभी नहीं देखी। लोगों में यह जानने की बड़ी जिज्ञासा रहती है कि जिस कलाकार को उन्होंने हमेशा बुजुर्ग किरदार में देखा, वह जवानी में कैसे दिखते थे। आज उनकी जवानी की फोटो सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रही है।

50 साल की उम्र के बाद रखा था सिनेमा जगत में कदम  

दरअसल, बहुत कम लोग जानते हैं कि जीवंत और अनूठे अंदाज में अदाकारी निभाने वाले स्व. हंगल साहब ने 50 साल की उम्र के बाद सिनेमा जगत में कदम रखा था। यही वजह रही कि उनको हमेशा उम्रदराज किरदार ही मिले। यह भी एक वजह है शायद, जिसके चलते बहुत से लोग यह नहीं देख सके कि वह जवानी में कैसे दिखते थे।

लीड एक्टर के पिता या रिश्तेदार का निभाते थे रोल 

शोले में रहीम चाचा के अलावा बावर्ची और चितचोर जैसी फिल्मों में दमदार भूमिका निभाने वाले एके हंगल का जन्म 1 फरवरी 1914 को पाकिस्तान के सिआलकोट में हुआ था। कश्मीरी पंडित परिवार से ताल्लुक रखने वाले एके हंगल का पूरा नाम अवतार किशन हंगल था। उनका बचपन और जवानी का वक्त पूरा पाकिस्तान के पेशावर में ही गुजरा था। उन्होंने अपनी जिंदगी में कई अलग-अलग काम किए। वह पहले टेलर भी हुआ करते थे। फिर 1936 में पेशावर में ही उन्होंने श्री संगीत प्रिय मंडल नाम के थिएटर ग्रुप को ज्वाइन कर लिया था।

पिता के रिटायरमेंट के बाद करांची शिफ्ट हुआ परिवार  

बताते हैं कि उनके पिता सरकारी नौकरी में थे और उनकी रिटायरमेंट के बाद पूरा परिवार पेशावर से कराची शिफ्ट हो गया था। इसके बाद 1949 में वह मुंबई आकर शिफ्ट हो गए। मुंबई आने के बाद एके हंगल, उस वक्त के नामी थिएटर ग्रुप इप्टा से जुड़ गए थे जिसमें बलराज साहनी और कैफी आजमी जैसे दिग्गज लोग काम करते थे। हंगल साहब की पहली फिल्म 1966 में रिलीज हुई बासु भट्टाचार्य की ‘तीसरी कसम’ थी।

ये भी पढ़ेंः 70 के दशक की दिग्गज अभिनेत्री विद्या सिन्हा का मुंबई में 71 साल की उम्र में बीमारी से निधन

शुरूआती दौर में संघर्ष के बाद फिर 1970 से 1990 के दशक तक उनको मुड़कर देखने की जरूरत नहीं पड़ी। उन्होंने ज्यादातर लीड रोड वाले अभिनेता के पिता या रिश्तेदार का रोल निभाया। यह उनकी उपलब्धि और अभिनय का कमाल ही था कि 1972 से लेकर 1996 तक उन्होंने सुपर स्टार राजेश खन्ना के साथ 16 फिल्मों में दमदार भूमिका निभाई। मुंबई में 2012 में उन्होंने अंतिम सांसें लीं।  आज उनकी पुण्यतिथि के मौके पर भी उनका अभिनय सबको याद है।

ये भी पढ़ेंः बला की खूबसूरत इस अभिनेत्री ने दो करोड़ की डील-दो पल में ठुकराई, लॉजिक सुनकर आप भी कहेंगे वाह.. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *