Sunday, November 17सही समय पर सच्ची खबर...

बुंदेलखंड के बांदा में कर्जमाफी के शोर के बीच नीलाम होंगी 57 किसानों की जमीनें

प्रतिकात्मक फोटो।

समरनीति न्यूज, बांदाः लोकसभा चुनाव का शोर बंद हो चुका है। आचार संहिता भी खत्म हो चुकी है। इसके साथ ही बुंदेलखंड के बांदा में किसानों पर कर्ज की बेड़ियां जकड़ी जाने लगी हैं। जी हां, किसानों को लेकर बड़े-बड़े वादे और दावे भले ही किए जा रहे हों लेकिन हकीकत कितनी घिनौनी है, इसका उदारहण बुंदेलखंड के बांदा में देखने को मिल रहा है। यहां जिले के 57 किसानों की जमीनें नीलाम हो रही हैं। इसके लिए बैंक ने वकायदा तारीखें भी तय कर दी हैं।

10 जून से 22 जून तक चलेगी नीलामी  

बताते हैं कि इन सभी 57 किसानों पर 50 लाख रुपए का कर्ज बकाया है। इसी को लेकर यूपी सहकारी ग्राम विकास बैंक लिमिटेड, की बांदा शाखा ने बकायेदारों की सूची तैयार कराकर नीलामी की तारीखें भी तय कर दी हैं। यह नीलामी 10 जून से 22 जून तक चलेगी। नीलामी गांव के प्राथमिक स्कूल में होगी।

प्रतिकात्मक फोटो

बैंक ने जारी की, इन किसानों की सूची  

रामनारायण पुत्र शिवलाल 76,190 (सभी अतरहट), कैलाश पुत्र रामस्वरूप 68,100 रुपए व चंद्रपाल पुत्र बनवारी 43,190 रुपए (जमालपुर), सूरजपाल पुत्र समलिया 85550 रुपए और छिदुवा पुत्र समलिया (मवई बुजुर्ग) 85,100, सदाशिव पुत्र कामता 1,21,860 रुपए, मुन्ना पुत्रा कामता 72,040 रुपए, जयनारायण पुत्र शिवलाल 75,030 व लल्लू पुत्र टेरिया 1,30,260 रुपए, राजेंद्र पुत्र डोमन 1,42,170, छोटेलाल पुत्र कुंवरवा 1,77,650 रुपए (सभी बरेठी कलां), रामचरन पुत्र मुन्ना 84,150 व लल्लू पुत्र भरोसा 77,300 रुपए (मोहन पुरवा), विशाली पुत्र शंकर 29,000, शिवदास पुत्र कंचा 54,400, गोमती पुत्र छोटे 58,260, कल्लू पुत्र गुलजारी 47,140, गब्बू पुत्र सहलुवा 47,140 शामिल हैं।

ये भी पढ़ेंः खरीद न होने पर भड़के किसानों ने खरीद केंद्र पर ही जलाई फसल, सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन की चेतावनी

इसी तरह गोरेलाल पुत्र लल्लू 47,140, भवानीदीन पुत्र बरातीलाल 81,160 रुपए (सभी अछरौड़), राजाभइया पुत्र बद्री 68,450 रुपए (मरौली), बाबूलाल पुत्र गोरेलाल 85,670, गया प्रसाद पुत्र मतइया 58,280 (जखौरा), लल्लू पुत्र भगोना 80,470 (पटना), हरीशरण पुत्र पालेश्वर 1,45,220, प्रभुदयाल पुत्र सुखइया 1,32,130, रामपाल सिंह पुत्र रामेश्वर 94,220, खिलावन पुत्र दुर्गा 1,33,790, दीनदयाल पुत्र राजाराम 60,970 व शमशुद्दीन पुत्र बिंदादीन 1,01,120 रुपये (सभी बसहरी) आदि शामिल हैं।

बांदा के तिंदवारी क्षेत्र में बारिश न होने की वजह से खेतों में जराई धान की बेड़न।

इनके अलावा रामऔतार पुत्र टेरा 75,360 (खहरा), बारेलाल पुत्र रामाधीन 1,02,740, कस्तूरी पुत्र कल्लू 1,17,750, छोटेलाल पुत्र फेरा 1,63,870, श्रीविशाल पुत्र सुंदर 1,44,000 (सभी खहरा), जगरूप सिंह पुत्र लालू सिंह 88,250 (अलोना), छोटेलाल पुत्र जुगुल 87,150 (अमोर), शिवदत्त पुत्र जगमोहन 86,860 (नांदादेव), अनिल सिंह पुत्र प्रताप सिंह 89,650 (जौरही), के नाम हैं।

चिंता से घिरे हैं सभी किसान  

इसी तरह हनुमान पुत्र नरैना 81,150 (सभी पिपरगवां), बासदेव पुत्र राममनोहर 1,38,370, शमशेर सिंह पुत्र रामकरण 85,970 (भिड़ौरा), अजय कुमार पुत्र चौबा 93,690, अशोक कुमार पुत्र चौबा प्रसाद 93,160 (धौंसड़), प्रेमचंद्र पुत्र सूरजबली 28,750, रामपाल पुत्र टंटी 1,13,640, दुर्गा पुत्र कल्लू 66,530 (सुहाना), कुंवरिया पुत्र रामदास 39,750 (करकरा पुरवा), पूरनलाल पुत्र ललवा 92,080 (महोखर), लाखन सिंह पुत्र शिवमोहन 1,37,610 (पचनेही), रामरूप पुत्र बल्देव सिंह 78,680 (पचनेही), वेनीवा पुत्र कलुवा 78,510 (सैमरी), सुमित्रा पत्नी रामपाल 1,05,500 व कैलाश पुत्र भागवत 63,020 (परसौड़ा), राजाराम पुत्र टंटी 1,27,140, फकीरा पुत्र तोफनिया 84,150 और राजकुमार पुत्र रामेश्वर 73,390 (अलिहा) के भी नाम शामिल हैं।

क्या कहना है बैंक अधिकारी का  

किसानों की जमीन की नीलामी को लेकर यूपी सहकारी भूमि विकास बैंक लिमिटेड के शाखा प्रबंधक जीएल त्रिवेदी से बात की गई। उन्होंने कहा कि जिन खाताधारक/बकायेदार किसानों की भूमि नीलाम हो रही है, उनको कर्जा अदा करने का पूरा मौका दिया गया था लेकिन उनकी ओर से कर्जा अदा नहीं किया गया। इसलिए अब जमीन नीलाम की जा रही है।

किसानों को अब सरकार पर भरोसा  

कर्ज से दबे किसान जमीन नीलाम होने की खबर को लेकर चिंतित हैं। सूखा और दूसरी प्राकृतिक आपदाओं से लड़ने वाले किसानों को सरकार पर पूरा भरोसा है। साथ ही किसानों का कहना है कि उनको पूरा यकीन है कि सरकार उनकी मदद करेगी। हांलाकि, कर्ज के चलते बैंक की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। अगर सरकार किसानों का कर्ज माफ करेगी तो उसे बैंक को इसका भुगतान करना होगा।

ये भी पढ़ेंः गुजरात के तीन आलू किसानों के खिलाफ अदालत पहुंची पेप्सिको इंडिया    

ये भी पढ़ेंः हाल-ए-बुंदेलखंड-2019ः सरकारें बदलीं-वादे बदले, नहीं बदले तो गरीब और किसान के हालात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *