Monday, April 12सही समय पर सच्ची खबर...
Shadow

India’s Daughter : पुणे की बरखा भंडारी साउथ ऑस्ट्रेलिया के सुप्रीम कोर्ट में बतौर बैरिस्टर एंड सॉलिसिटर रजिस्टर्ड

India's Daughter :  Barkha Bhandari  law practice in Supreme Court of south Australia

मनोज सिंह शुमाली, समरनीति न्यूज : महाराष्ट्र के पुणे जिले के पिंपरी में जन्मी एक बेटी ने भारत का मान बढ़ाया है। माता-पिता और भाई के साथ ऑस्ट्रेलिया में रह रही इस बेटी का साउथ ऑस्ट्रेलिया सुप्रीम कोर्ट में बैरिस्टर और सॉलिसिटर के तौर पर रजिस्टर्ड हुई हैं। कानून और वाणिज्य से ग्रेजुएट छात्रा बरखा बीरेंद्र भंडारी ने साउथ ऑस्ट्रेलिया में अपने परिवार के साथ रहती हैं। बेटी की इस उपलब्धि पर उनके पिता बीरेंद्र जे भंडारी बेहद खुश हैं। फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि उन्हें बेटी पर गर्व है।

India's Daughter :  Barkha Bhandari  law practice in Supreme Court of south Australia

पिता बिल्डिंग इंजीनियर, मां बैंक अधिकारी

उनकी मां पुष्पा बीरेंद्र भंडारी ऑस्ट्रेलिया के बैंक में वरिष्ठ अधिकारी के रूप में कार्यरत हैं जबकि पिता बीरेंद्र जे भंडारी बिल्डिंग इंजीनियरिंग के कार्य से जुड़े हैं। ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में उनकी एक कंस्ट्रक्शन कंपनी है जिसका कार्य साउथ आस्ट्रेलिया और विक्टोरिया में चल रहा है।

India's Daughter :  Barkha Bhandari  law practice in Supreme Court of south Australia

15 वर्ष पहले परिवार गया था ऑस्ट्रेलिया

दरअसल, बरखा के पिता बीरेंद्र वर्ष 2005 में नौकरी के सिलसिले में ऑस्ट्रेलिया गए थे। इसके बाद वहीं अस्थाई तौर पर बस गए। उस समय बरखा की उम्र मात्र 13 साल थी और वह 8वीं की छात्रा थीं। बरखा की आगे की पढ़ाई ऑस्ट्रेलिया में ही पूरी हुई। उनका एक छोटा भाई राहुल है जो ओपन क्रिकेट क्लब में खेल रहा है। क्रिकेट में उसका शानदार प्रदर्शन रहता है।

ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों की बड़ी संख्या

ऑस्ट्रेलिया में बड़ी संख्या में भारतीय मूल के लोग बड़ी संख्या हैं। भारत के विभिन्न राज्यों से पढ़ाई के लिए भी छात्र आस्ट्रेलिया जाते हैं। बड़ी संख्या में लोग वहां नौकरी भी कर रहे हैं। भारत की तरह ऑस्ट्रेलिया में भी क्रिकेट काफी पसंद किया जाता है। क्रिकेट के इतिहास में दर्ज आस्ट्रेलिया के महान खिलाड़ी सर डॉन ब्रैडमैन और भारत के सचिन तेंदुलकर एक-दूसरे के काफी प्रशंसक रहे हैं। ऐसे में भंडारी परिवार की उपलब्धियां सराहनीय हैं।

ये भी पढ़ें : भारत की इस 19 साल की रैसर बेटी हिमा दास पर बरसेगा पैसा, 20 दिन में जीते हैं 5 गोल्ड मैडल..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: