Friday, January 28सही समय पर सच्ची खबर...
Shadow

बांदा में मवेशियों को जिंदा दफनाने का मामला तूल पकड़ा, नरैनी में हिंदू संगठनों का जाम-नारेबाजी, जांच कमेटी गठित

matter of burying cows alive in Banda Naraini caught fire

समरनीति न्यूज, बांदा : सड़कों पर घूम रहे बेसहारा मवेशियों को ले जाकर मध्यप्रदेश के बार्डर के जंगलों में रूप से जिंदा दफनाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। नरैनी विधायक राजकरन कबीर ने मौके पर पहुंचकर खुद हालात देखे। इसी के बाद इस मामले का खुलासा हुआ था। अब भाजपा, बजरंग दल, विहिप समेत कई संगठनों के लोगों ने सड़क पर प्रदर्शन किया। साथ ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग उठाई है।सीडीओ वेद प्रकाश मोर्या ने मौके पर पहुंचकर लोगों समझाया। दो दिन में जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद करीब 3 घंटे बाद जाम खुला।

डीएम ने तीन दिन में तलब की जांच रिपोर्ट

लोगों में घटना को लेकर काफी नाराजगी देखने को मिली। वहीं प्रशासन का कहना है कि जांच के बाद दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उधर, जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने सीडीओ की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी गठित करते हुए 3 दिन में रिपोर्ट तलब की है। उधर, कई थानों का फोर्स भी धरनास्थल और जाम लगाए जाने वाली जगह पर तैनात है।

matter of burying cows alive in Banda Naraini caught fire

भाजपा विधायक ने मौके पर पहुंचकर देखे हालात

बताया जाता है कि नरैनी कस्बे से शनिवार को नगर पंचायत की गोशाला से कई अधिकारियों की मौजूदगी में 8 ट्रकों में गायों को लादकर सीमावर्ती एमपी के जंगलों में ले जाया गया था। आरोपी है कि पहाड़ी खेरा से उन सभी को उतार दिया गया था।

matter of burying cows alive in Banda Naraini caught fire

नरैनी विधायक ने मौके पर जाकर देखे थे हालात

आरोप है कि वहां गायों और बछड़ों को जिंदा दफन किया गया है। जानकारी मिलने पर खुद भाजपा के नरैनी विधायक राजकरण कबीर एमपी के जंगलों में उस स्थान पर पहुंचे।

ये भी पढ़ें : बड़ी खबर : बांदा का ग्राम प्रधान, हिस्ट्रीशीटर भाई के साथ हमीरपुर से तमंचे खरीदने पहुंचा, पुलिस ने 5 को दबोचा

विधायक का कहना है कि पहाड़ी खेडा (पन्ना) से सात किलोमीटर पहले पहाड़ में सड़क किनारे चरवाहों की मदद से करीब 50 गायों को जेसीबी से गड्ढा खुदवाकर दफनाया गया है।

matter of burying cows alive in Banda Naraini caught fire

विधायक ने यह भी कहा कि कई गायों को घायल और जीवित अवस्था में दफन किया गया है। भाजपा विधायक का कहना है कि इस पूरे प्रकरण की उच्चस्तरीय जांच कराई जाएगी। गायों की निर्मम हत्या के आरोपी अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा पंजीकृत होगा।

matter of burying cows alive in Banda Naraini caught fire

उधर, जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने बताया कि नरैनी मंडी समिति में तीन खरीद केंद्र खुले हैं। पशुओं की अधिकता के चलते खरीद प्रभावित हो रही थी। इसलिए बेसहारा मवेशियों को गोशालाओं में संरक्षित कराया गया। गुढ़ाकला की गौशाला में 26, नहरी में 25, मसौनी में 38 व रगौली भटपुरा वृहद गोशाला में 25 पशु संरक्षित हुए।

ये भी पढ़ें : Breakingnews : बांदा में दिल दहलाने वाली वारदात, बेटे ने की पिता की पीट-पीटकर हत्या

जीवित व घायल गायों को दफनाने के मामले की जांच कराई जा रही है। सीडीओ की अध्यक्षता में 3 सदस्यों की एक टीम गठित की गई है। रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उधर, बजरंग दल के गोसेवा सेवा प्रमुख सोनू करवरिया व विश्व हिंदू परिषद के तहसील गोरक्षक विनोद दीक्षित का कहना है कि ट्रकों में कई गोवंशों को ठूंस-ठूंसकर भरा गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *