Sunday, March 29सही समय पर सच्ची खबर...

यूपी के पांच खनिज अधिकारियों के खिलाफ जांच के आदेश, भ्रष्टाचार के हैं गंभीर आरोप

Government take action against illigal mining khan officers
प्रतिकात्मक फोटो।

समरनीति न्यूज, लखनऊः उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस के तहत कार्रवाई लगातार जारी है। हाल ही यूपी में पांच आईपीएस अधिकारियों के तबादले, एक का निलंबन और उन्नाव डीएम को सस्पेंड किया गया। बताते हैं कि अब भ्रष्टाचार के मामले में सरकार के रडार पर खनन अधिकार हैं। इनमें वे खनन अधिकारी शामिल हैं जिन्होंने पूर्व सरकारों में भ्रष्टाचार की सीमाएं तोड़ते हुए अकूत धन-संपत्ति इकट्ठा की थी।

भ्रष्टाचार पर सरकार जीरो टालरेंस

हालांकि, अब मुख्यमंत्री योगी की ओर से इनको कोई छूट मिलने की उम्मीद नहीं है। बताते हैं कि इन पांचों के खिलाफ सीबीआई ने भी सख्त की थी। कहा जा रहा है कि इनके नाम पूर्व की सरकार में बड़े भ्रष्टाचार में सामने आए थे जिसकी जांच सीबीआई द्वारा की जा रही है।

हमीरपुर-कौशांबी समेत पांच रडार पर

इनपर सीबीआई द्वारा भी पहले ही मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। अब मुख्यमंत्री योगी द्वारा भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस की नीति पर चलते हुए खनन में भ्रष्टाचार के आरोपी पांचों अधिकारियों के खिलाफ जांच के आदेश जारी किए हैं।

ये भी पढ़ेंः उन्नाव डीएम देवेंद्र पांडे सस्पेंड, बांदा-प्रतापगढ़ भी हटे, 13 IAS तबादले

इन पांच अधिकारियों में बांदा के रहने वाले हमीरपुर के खनन अधिकारी मुइनुद्दीन भी शामिल हैं जिनपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं। इसके अलावा शामली और कौशांबी में तैनात रहे दो सहायक भूवैज्ञानिक तथा देवरिया के पूर्व खान निरीक्षक व सहायक भूवैज्ञानिक शामिल हैं।

ये हैं खनिज अधिकारियों पर आरोप 

बताते चलें कि इन सभी पर आरोप है कि इन पांचों ने नियमों को ताक पर रखकर अपने-अपने क्षेत्रों में अवैध खनन कराया। इतना ही नहीं अपने कुछ खास लोगों को फायदा पहुंचाते हुए सरकार को करोड़ों का चूना लगाया। इसके साथ ही पट्टा नवीनीकरण में हेरफेर के भी आरोपी हैं। अब सरकार ने इस मामले की जांच वरिष्ठ वेधन अभियंता, भूतत्त्व एवं खनिकर्म निदेशालय, सुधीर दुबे को सौंपी गई है। सूत्रों का कहना है कि इस बार भ्रष्टाचारियों का बचना संभव नहीं है।

ये हैं पांचों आरोपी खनन अधिकारी, CBI भी कर चुकी है मुकदमा

  1. मुईनुद्दीन, भूवैज्ञानिक/खान अधिकारी हमीरपुर, मौजूदा वक्त में मुख्यालय लखनऊ।
  2. डॉ सदल प्रसाद-सहायक भूवैज्ञानिक शामली, मौजूदा वक्त में मुजफ्फरनगर।
  3. अरविंद कुमार, सहायक भूवैज्ञानिक, कौशाम्बी, मौजूदा वक्त में चंदौली।
  4. पंकज सिंह, खान निरीक्षक देवरिया, मौजूदा वक्त में मिर्जापुर खान अधिकारी।
  5. विजय कुमार मौर्य, सहायक भूवैज्ञानिक/खान अधिकारी देवरिया, मौजूदा वक्त में भूवैज्ञानिक, प्रभारी, सोनभद्र।

ये भी पढ़ेंः सीबीआई के बाद अब ई़डी ने डीएम बी.चंद्रकला और खनिज अधिकारी मोइनुद्दीन, एमएलसी रमेश मिश्रा समेत 11 के खिलाफ लिखी FIR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *