Saturday, July 2सही समय पर सच्ची खबर...
Shadow

बांदा में अवैध प्लाटिंग से लाखों की स्टांप चोरी, विकास प्राधिकरण की मेहरबानी से भू-माफियाओं की मौज

Stamp theft of crores doing land mafia in Banda, illegal plating game under the nose of BDA

समरनीति न्यूज, ब्यूरो (बांदा) : बुंदेलखंड के बांदा जिले में भू-माफियाओं पर विकास प्राधिकरण के अधिकारी इस कदर मेहरबान हैं कि उन्हें करोड़ों रुपए की स्टांप चोरी भी दिखाई नहीं दे रही है। ‘समरनीति न्यूज’ ने पहले ही बांदा शहर के चारों ओर अवैध प्लाटिंग के मुद्दे को प्रमुखता से प्रकाशित किया है। बावजूद इसके बांदा विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने वह तेजी नहीं दिखाई, जिसकी जरूरत है। सरकार को होने वाली भारी राजस्व हानि को लेकर भी जिम्मेदार जागने को तैयार नहीं है। ऐसे में कई गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं।

छोटी सी कार्रवाई कर बीडीए हुआ शांत

दो दिन पहले बांदा विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने चिल्ला रोड से तिंदवारी जाने वाले रास्ते पर जाकर बुल्डोजर से एक ढांचा गिराया। दो लोगों को अवैध रूप से बिना अनुमति लिए प्लाटिंग कराने के लिए नोटिस दिया। फिर दोबारा मुड़कर वापस नहीं देखा।

Stamp theft of crores doing land mafia in Banda, illegal plating game under the nose of BDA

यह है पूरा मामला

दरअसल, बांदा जिला मुख्यालय के चारों ओर अवैध रूप से प्लाटिंग का बड़ा खेल चल रहा है। चिल्ला रोड या फिर भूरागढ़ बाईपास के आसपास का क्षेत्र। नरैनी-अतर्रा रोड हो या तिंदवारी बाईपास। सभी जगहों पर अवैध प्लाटिंग धड़ल्ले से साईन बोर्ड लगाकर की जा रही है। कुछ नेताओं के संरक्षण में अवैध प्लाटिंग का खेल जारी है।

ये भी पढ़ें : बांदा : शादियों में महिलाओं पर खुजली पाउडर डालकर करते थे लूट, लाखों की ज्वैलरी-कैश के साथ 5 गिरफ्तार

बीडीए से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यह सारा खेल सत्ता से जुड़े कुछ नेताओं और बांदा विकास प्राधिकरण के घाघ हो चुके एक जगह जमे अधिकारियों की मिलीभगत की देन है। यही वजह है कि अबतक कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। वहीं भू-माफिया रोजाना लाखों की स्टांप चोरी कर सरकार को चूना लगा रहे हैं।

Stamp theft of crores doing land mafia in Banda, illegal plating game under the nose of BDA

ऐसे लगा रहे चूना

दरअसल, सूत्र बताते हैं कि बांदा में भू-माफिया प्रापर्टी डीलिंग के नाम पर किसानों की जमीन लेकर प्लाटिंग कर रहे हैं। दरअसल, किसानों से जमीन की खरीददारी नहीं करते। बल्कि, सीधे कच्चे कागजों के सहारे जमीन लेकर सीधे खरीददार को बेच देते हैं। यानी बड़ी स्टांप चोरी। सबकुछ जानते हुए भी बांदा विकास प्राधिकरण के अधिकारी आंखें मूंदे बैठे हैं। कई वर्षों से चल रहे इस गड़बड़झाले पर जिम्मेदारों की चुप्पी समझ से परे है।

क्या कहते हैं अधिकारी

बांदा विकास प्राधिकरण के अधिशाषी अभियंता आरपी द्विवेदी का कहना है कि अवैध प्लाटिंग के सिलसिले में दो लोगों के खिलाफ नोटिस देने की कार्रवाई हुई है। वहां अवैध प्लाटिंग को ध्वस्त भी कराया है। योगा दिवस के कार्यक्रम में व्यस्तता के चलते काम रुका है। ऐसा करता कोई मिला तो दोबारा कार्रवाई शुरू की जाएगी।

ये भी पढ़ें : रेल यात्री ध्यान दें, जुलाई में गरीब रथ एक्स. समेत निरस्त रहेंगी ये ट्रेनें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.